Default Theme
AIIMS NEW
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, नई दिल्ली
All India Institute Of Medical Sciences, New Delhi
कॉल सेंटर:  011-26589142

प्रशिक्षण

NDDTC-Training

 

प्रशिक्षण

 

 

 

 

केंद्र के प्राथमिक जनादेश से एक मादक पदार्थ का उपयोग करने से होने वाले विकारों के क्षेत्र में देश में मानव संसाधन की क्षमता का निर्माण करना हैकेंद्र को1989  के बाद से डॉक्टरों और स्टाफ के सदस्यों की अन्य श्रेणियों को प्रशिक्षण प्रदान करने में शामिल किया गया है। केंद्र द्वारा प्रशिक्षकों, चिकित्सा डॉक्टरों ) जीडीएमओ(, नर्सों और प्रयोगशाला कर्मियों के प्रशिक्षण के लिए पाठ्यक्रम, प्रशिक्षण अनुसूची, विधियां और संसाधन सामग्रियां विकसित की गई हैं। आज तक देश में केंद्र या विभिन्न अन्य साइटों के परिसर में डॉक्टरों के लिए 40  पाठ्यक्रमों का आयोजन किया गया है। विभिन्न मैनुअल उपलब्ध हैं प्रशिक्षण कार्यक्रम की समीक्षा की और संसाधन व्यक्तियों की कार्यशालाओं के माध्यम से संशोधित किया गया हैइन प्रशिक्षण कार्यक्रमों में से कुछ डब्‍ल्‍यूएचओ (भारत) द्विवार्षिकी गतिविधियों के एक भाग के रूप में आयोजित की गईहाल के दिनों में केंद्र द्वारा आयोजित प्रशिक्षण कार्यक्रमों में से कुछ हैं:

 

प्रशिक्षण:

  • राज्य के सरकारी अस्पतालों / स्वास्थ्य केन्द्रों में कार्य करने वाले फार्मामेडिकल स्‍टाफ (नर्स, स्‍वास्‍थ्‍य कार्यकर्ता, आशा, एएनएम, आंगनवाडी कार्यकर्ता आदि) के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम जिला आधारित मॉडल परियोजना के भाग के रूप में मोरिगांव, असम, जनवरी 2009
  • राज्य के सरकारी अस्पतालों / स्वास्थ्य केन्द्रों में कार्य करने वाले फार्मामेडिकल स्‍टाफ (नर्स, स्‍वास्‍थ्‍य कार्यकर्ता, आशा, एएनएम, आंगनवाडी कार्यकर्ता आदि) के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम जिला आधारित मॉडल परियोजना के भाग के रूप में  मेरठ, उ. प्र., फरवरी 2009
  • मार्च2009  में गाजियाबाद के केन्द्र परिसर में चिकित्सा डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ के लिए एगोनिस्‍ट रखरखाव (ओएसटी) पर प्रशिक्षण कार्यक्रम। दूसरा
    पाठ्यक्रम
    एक द्विवार्षिकी गतिविधि डब्‍ल्‍यूएचओ के रूप में, अप्रैल2009  में हमारे केंद्र के सहयोग से आरआईएमएस, इम्फाल द्वारा आयोजित किया गया था।
  • द्विवार्षिकी गतिविधि डब्‍ल्‍यूएचओ के रूप में अप्रैल2009  में श्रीनगर मेडिकल कालेज, श्रीनगर में राज्य के सरकारी अस्पतालों / स्वास्थ्य केन्द्रों में कार्य
    करने वाले डॉक्टरों (चिकित्सा अधिकारी) के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम।
  • अप्रैल2010  में डिगबोई, असम में और चारों ओर विभिन्न अस्पतालों / स्वास्थ्य केन्द्रों में कार्य कर रहे  डॉक्टरों (चिकित्सा अधिकारी) और अन्य पैरामेडिकल स्टाफ के
    लिए
    प्रशिक्षण कार्यक्रम, (एओडी अस्पताल डिगबोई में आयोजित)।
  • पंजाब के पांच जिलों (अगस्त2010  में चंडीगढ़ और अक्टूबर 2010  में अमृतसर में आयोजित) पर  (गैर सरकारी संगठन (आईडीयू टीआई) स्टाफ के रूप में
    विभिन्न सरकारी अस्पतालों में कार्य कर रहे डॉक्टरों (चिकित्सा अधिकारी) और अन्य पैरामेडिकल स्टाफ के लिए ब्युपरेनोर्फिन के साथ ओएसटी पर प्रशिक्षण
    कार्यक्रम
  • एनएफडीएसी, राजस्व विभाग, वित्त मंत्रालय द्वारा वित्त पोषित एनडीडीटीसी, एम्स में 28 मार्च 2011  से आयोजित चिकित्सा अधिकारियों का सामान्य
    कर्त्तव्‍य प्रशिक्षण
      
  • नेपाल, मिजोरम और पंजाब के छात्रों का प्रशिक्षण। 
  • डेनमार्क के नर्सिंग छात्रों के लिए एक दिवसीय उन्मुखीकरण, 20 जुलाई, 2010. 
  • मादक द्रव्यों के सेवन में सह रोगों पर नर्स के आंतरिक प्रशिक्षण9 दिसंबर 2010. 
  • एनडीडीटीसी, एम्स में 13  अप्रैल2011  को आयोजित" लिंकेज बिटवीन गवर्नमेंट, एनजीओ एंड प्राइवेट सेक्‍टर फॉर मैनेजमेंट ऑफ सबस्टेंस यूज डिऑर्डर्स'' पर
    वार्षिक दिवस
    संगोष्ठी

 

  • तिहाड़ जेल में 11 नवंबर 2011 ओपिओइड प्रतिस्थापन उपचार पर एक दिन का पुनश्चर्या प्रशिक्षण

 

  • यूएनओडीसी रोजा, एनडीडीटीसी, एम्स, नई दिल्ली, 31 अक्टूबर 2011 से 4 नवम्बर 2011 के सहयोग से एनडीडीटीसी, एम्स, नई दिल्ली द्वारा आयोजित
    '
    मेथाडोन मैंटेंनेस ट्रीटमेंट इन इंडिया
    ' पर प्रशिक्षण कार्यशाला

 

  • एनएफसीडीए, राजस्‍व विभाग, वित्त मंत्रालय द्वारा वित्त पोषित एनडीडीटीसी, एम्‍स में 28 मार्च 2011 8 अप्रैल, 2011, 12 से 24 सितंबर, 2011,
    13 फरवरी
    25 फरवरी 2012 तक आयोजित चिकित्‍सा अधिकारियों के  सामान्‍य कर्त्तव्‍य के प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए प्रशिक्षण

 

  • एनएफसीडीए द्वारा वित्त पोषित सामान्‍य चिकित्‍सा अधिकारियों के कर्तव्‍य के प्रशिक्षक 'कार्यक्रम के लिए प्रशिक्षण और चंडीगढ़ (17-19 अगस्‍त, 2011),
    इम्‍फाल (21 नवम्‍बर
    , 2011), रांची (5-6 दिसम्‍बर, 2011, 12-13 फरवरी, 2013), मुम्‍बई (1 2, दिसम्‍बर, 22-23 फरवरी) में एनडीडीटीसी, एम्‍स द्वारा आयोजित।

 

  • एनडीडीटीसी, एम्स में 29 अप्रैल से 5 मई 2011 पर गैर सरकारी संगठनों के कर्मचारियों के लिए "इंटरवेंशन फॉर स्ट्रीट चिल्ड्रन" के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम 

 

  • 17 से19  अक्टूबर 2011 को होटल क्‍लेरिजेस में एडिलेड यूनिवर्सिटी के सहयोग से एशिया में मादक दवाओं की आदत के प्रभावी उपचार के लिए व्यावहारिक
    दृष्टिकोण
    पर कार्यशाला।

 

  • एनडीडीटीसी, दिल्ली में12  अगस्त 2011 को  निमहांस में 19 अगस्त 2011, केईएम मुंबई  में  26  अगस्त, 2011, आरआईएमएस इंफाल में  13 सितम्बर
    2011 को
     सरकारी, गैर सरकारी संगठन और निजी  नशामुक्ति सेवाओं के बीच नेटवर्किंग बैठक

 

  • ट्रेनिंग कोर्स फॉर मेडिकल प्रोफेशनल्‍स, भूटान 23.7.12 से 4.8.12 के बीच , वित्त मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा निधिकृत।

 

  • ट्रेनिंग कोर्स फॉर मेडिकल प्रोफेशनल्‍स, बंग्‍लादेश 24 सितंबर से 6 अक्‍तूबर 2012 के बीच  विदेश मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा निधिकृत।

 

  • नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ मेंटल एण्‍ड न्‍यूरोसाइंसिस (निमहंस) में अक्‍तूबर, 2012 में ''नेशनल कैपेसिटी बिल्डिंग ऑफ मेडिकल प्रोफेशनल्‍स ऑन
    ट्रीटमेंट ऑफ सबस्‍टेंस यूज़ डिसोर्डर्स'' पर प्रशिक्षण कार्यक्रम। वित्त मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा राष्‍ट्रीय मादक पदार्थ नियंत्रण निधि के तहत निधिकृत।

 

  • ''मैथेडोन मेंटेनेंस ट्रीटमेंट इन इण्डिया : ए मल्‍टी साइट फीसिबिलिटी एण्‍ड इफैक्टिवनेस स्‍टडी'' पर 19 से 21 नवंबर, 2012 के बीच समीक्षा और पुनश्‍चर्या  
    प्रशिक्षण का आयोजन एनडीडीटीसी द्वारा होटल कोंक्‍लेव बुटिक, नई दिल्‍ली में किया गया।

 

  • चार स्‍थलों पर अनुसंधान अन्‍वेषकों के लिए दो दिवसीय प्रशिक्षण – एजवाल – 1 से 2 मई 2012, पुणे –26 से 27 नवंबर, 2012, केरल – 13 और 14
    दिसंबर, 2012, दो प्रशिक्षण अप्रैल और दिसंबर, 2012, दिल्‍ली, में ''अन एसेस्‍मेंट ऑफ पैटर्न, प्रोफाइल एण्‍ड कॉरिलेटस ऑफ ड्रग यूज़ अमंग एडोलसेंट्स इन
    इण्डिया'' नामक परियोजना के तहत। राष्‍ट्रीय बाल अधिकार आयोग (एनसीपीसीआर) द्वारा निधिकृत।

 

  • (जीएफएटीएम) परियोजना के तहत मेडिकल डॉक्‍टर्स एण्‍ड नर्सिस, प्रोग्राम मैनेजर्स, काउंसर्ल्‍स, डेटा मैनेजर्स, एनजीओ स्‍टाफ के लिए एनडीडीटीसी
    द्वारा नोडल आरटीटीसी के तौर पर देश के विभिन्‍न राज्‍यों में 12 प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन किया गया जिसमें उन्‍हें ओपीओइड प्रतिस्‍थापन
    उपचार प्रदान किया गया और मेडिकल स्‍टाफ के क्षमता निर्माण किया गया (25 से 29 जून, 9 से 13 जुलाई, 6 से 10 अगस्‍त, 30 अक्‍तूबर से
    4 नवंबर, 26 से 30 नवंबर, 17 से 21 दिसंबर, 18 से 22 दिसंबर। 28 जनवरी से 1 फरवरी, 2013, 14 से 16 फरवरी, 20-1, 2013., 11 से 15 मार्च, 2013.
    18 से 22 मार्च, 2013. इन 12 प्रशिक्षण कार्यक्रमों में से 10 का आयोजन नई दिल्‍ली में, और अन्‍य दो का आयोजन भुवनेश्वर और रायपुर में किया गया।

 

  • 4' प्रशिक्षकों का प्रशिक्षण' कार्यक्रम जनरल ड्यूटी मेडिकल अधिकारियों के लिए 16 सितंबर 2013 से 28 सितंबर 2013 और 17 फरवरी – 1 मार्च, 2014
    के बीच एनडीडीटीसी, एम्‍स में आयोजित किया गया, जिसका निधिकरण एनएफसीडीए, राजस्‍व विभाग, वित्त मंत्रालय ने किया।

टिप्‍पणी : इन सभी प्रशिक्षण कार्यक्रमों में संसाधन व्‍यक्ति एनडीडीटीसी के संकाय और स्‍टाफ होंगे। कई बार अन्‍य संस्‍थानों के संकाय सदस्‍यों को भी प्रशिक्षण
हेतु संसाधन व्‍यक्तियों के रूप में
 आमंत्रित किया जाता है। 

हाल ही में केंद्र ने मादक पदार्थ सेवन के विकारों के क्षेत्र में डॉक्‍टरों के प्रशिक्षण पर केंद्रित एक नई परियोजना शुरू की है। इस परियोजना में देश के प्रत्‍येक
जिले के अस्‍पताल में कम से कम एक डॉक्‍टर को प्रशिक्षण देने का प्रावधान है ताकि तीन वर्ष की अवधि में देश के 500 से अधिक डॉक्‍टरों को प्रशिक्षण दिया
जा सके। इस योजना का वित्तपोषण राष्‍ट्रीय औषध सेवन नियंत्रण निधि (एनएफसीडीए)
, राजस्‍व विभाग, वित्त मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा किया जा रहा है।
इस उपक्रम में एनडीडीटीसी
, एम्‍स के साथ सहयोग कर रहे संस्‍थान निम्‍नवत् हैं :-

  • केंद्रीय मनोरोग संस्थान )सीआईपी(, रांची
  • राजकीय आयुर्विज्ञान महाविद्यालय  )जीएमसी(, चंडीगढ़
  • केईएम अस्पताल, मुंबई
  • राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य एवं तंत्रिका विज्ञान संस्थान )निमहांस(, बैंगलोर
  • क्षेत्रीय आयुर्विज्ञान संस्थान )आरआईएमएस(, इम्फाल

 

इनके अलावा, डॉक्‍टरों, नर्सों, परियोजना प्रबंधकों और कई अन्‍य संगठनों के परामर्शदाताओं को प्रशिक्षण देने में केंद्र की संकाय भी शामिल है। इनमें सामाजिक
न्‍याय और अधिकारिता मंत्रालय द्वारा सहायता प्राप्‍त  एनजीओ
, राष्‍ट्रीय सामाजिक रक्षा संस्‍थान, क्षेत्रीय संसाधन और प्रशिक्षण केंद्र, नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ क्रिमिनोलॉजी एण्‍ड फोरेंसिक साइंसेज़, राष्‍ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन, राज्‍य एड्स नियंत्रण सोसाइटियां इत्‍यादि शामिल हैं।

केंद्र ने प्रशिक्षण हेतु मैनुअल के रुप में संसाधन सामग्री भी तैयार की है। इन मैनुअलों को प्रशिक्षण कार्यक्रमों के दौरान प्रतिभागियों में वितरित किया जाता है।
इसके साथ साथ ये मैनुअल नि:शुल्‍क
डाउनलोड  भी किए जा सकते हैं।

 


 

The centre has been involved in providing training to doctors and other categories of staff members since 1989. The centre has developed curricula, training schedules, modalities and resource materials for training of trainers, Medical Doctors (GDMOs), nurses and laboratory personnel. Between January 1989 and October 2007, about 40 courses for doctors have been organised. Various manuals are available. The training programmes have been reviewed and modified through workshops of resource persons.

 

 

 

 


 

The centre has been involved in providing training to doctors and other categories of staff members since 1989. The centre has developed curricula, training schedules, modalities and resource materials for training of केंद्र में 1989  के बाद से डॉक्टरों और स्टाफ के सदस्यों की अन्य श्रेणियों को प्रशिक्षण प्रदान करने में शामिल किया गया हैकेंद्र द्वारा प्रशिक्षकों, चिकित्सा डॉक्टरों ) जीडीएमओ), नर्सों और प्रयोगशाला कर्मियों के प्रशिक्षण के लिए पाठ्यक्रम, प्रशिक्षण अनुसूची, तौर तरीकों और संसाधन सामग्री विकसित की गई है। जनवरी 1989  और मार्च 2012 के बीच, डॉक्टरों के लिए लगभग 65 पाठ्यक्रमों का आयोजन किया गया हैविभिन्न  मैनुअल उपलब्ध हैं प्रशिक्षण कार्यक्रम की समीक्षा की और संसाधन व्यक्तियों की कार्यशालाओं के माध्यम से संशोधित किया गया है

 

अभी अभी केंद्र ने 23 अगस्‍त से 4 अगस्‍त 2012, तक भूटान के मेडिकल प्रोफेशनल के लिए और 24 सितंबर से 6 अक्‍तूबर, 2012 तक बांग्‍लादेश के मेडिकल प्रोफेशनल्‍स के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया है। 

 

 

 

If you want any change or rectification please Click Here

Top of Page