Default Theme
AIIMS NEW
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, नई दिल्ली
All India Institute Of Medical Sciences, New Delhi
कॉल सेंटर:  011-26589142

अनुसंधान गतिविधियाँ

अनुसंधान गतिविधियाँ 

अनेक अनुसंधान परियोजनाएं पूरी की गई हैं और कुछ वर्तमान में जारी हैं।
  1. कल्‍याण मंत्रालय द्वारा निधिकृत परियोजना : एक मल्‍टी एक्सियल ऑर्थोटिक कूल्‍हे के जोड़ की नई डिजाइन जिससे व्‍यक्ति पैर मोड़कर और आलती पालती लगाकर बैठ सकता है, जब इसे कूल्‍हे - घुटने - टखने - पैर के ऑर्थोसिस के साथ इस्‍तेमाल किया गया, यह दुनिया में अपने प्रकार का अनोखा साधन है।
  2. आईसीएमआर निधिकतृ, बहुकेन्‍द्रीय अध्‍ययन "बच्‍चों में नि:शक्‍तता की रोकथाम और पुनर्वास, पोलियो माइलिटिस पर एक प्रायोगिक अध्‍ययन"
  3. आईसीएमआर निधिकृत परियोजना : "शारीरि‍क नि:शक्‍तता की रोकथाम के लिए स्‍वास्‍थ्‍य शिक्षा"।
  4. कल्‍याण मंत्रालय द्वारा निधिकृत परियोजना : "घुटने से ऊपर प्रोस्‍थेसिस के साथ पैर मोड़कर बैठना"
  5. आईसीएमआर निधिकृत अनुसंधान परियोजना : "एमप्‍यूटी का सर्वेक्षण एमप्‍यूटेशन के कारण के प्रति विशेष संदर्भ तथा ग्रामीण क्षेत्रों में आधुनिक प्रोस्‍थेटिक हार्डवेयर की प्रभावशीलता का मूल्‍यांकन"।
  6. "एनएसएआईडी की तुलनात्‍मक दक्षता" तथा फार्मेकोलॉजी विभाग के सहयोग से ऑस्टियो ऑर्थोसिस में स्‍वदेशी दवाएं।
  7. "न्‍यूरोलाइटिक एजेंट - फिनोल के साथ चयनात्‍मक मोटर तंत्रिका ब्‍लॉक - मस्तिष्‍क पक्षाघात से पीडि़त बच्‍चों में नि:शक्‍तता का प्रबंधन। एक सहयोगात्‍मक बहु संस्‍थागत अध्‍ययन"।
  8. "तत्‍काल ऑपरेशन के पश्‍चात इस्चियन भार वहन प्रोस्‍थेसिस पर संयुक्‍त सहयोगात्‍मक परियोजना, प्रोद्योगिकी हस्‍तांतरण तथा क्लिनिकल परीक्षण''।
  9. रिहैबिलिटेशन इंस्‍टीट्यूट ऑफ मिशिगन, वायन स्‍टेट यूनिवर्सिटी स्‍कूल ऑफ मे‍डिसिन, यूएसए के साथ सहयोगात्‍मक परियोजना।
  10. वर्तमान में नि:शक्‍त तंत्रिका संबंधी परिस्थितियों के स्‍वेदशी इलाज और आधुनिक प्रबंधन की तुलनात्‍मक दक्षता पर कार्य जारी है।
  11. एम्‍बुलेटरी दृष्टि से अधिक उम्र के लोगों में स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी जीवन की गुणवत्ता (क्‍यूओएल) पर बहु विषयक हस्‍तक्षेप का प्रभाव, आईसीएमआर सहित काय चिकित्‍सा विभाग, डॉ. ए बी डे, डॉ. यू सिंह और डॉ. सूर्य गुप्‍ता के साथ निधिकृत सहयोगात्‍मक अनुसंधान परियोजना।
  12. मस्तिष्‍क पक्षाघात से प्रभावित बच्‍चों में न्‍यूरोजेनिक बाउल और ब्‍लेडर विकारों का भविष्‍यलक्षी मूल्‍यांकन (सामाजिक न्‍यायलय और आधिकारिता मंत्रालय द्वारा एस एण्‍ड टी मिशन मोड के तहत निधिकृत)।
वेब डिजाइन और सामग्री प्रावधान: डा उ सिंघ
Top of Page